Ovulation meaning in hindi

Ovulation meaning in Hindi: Ovulation kya hota hai? ओव्यूलेशन तब होता है जब एक महिला के अंडे गर्भावस्था के लिए तैयार होते हैं।

ओवुलेशन क्या होता है? (Ovulation Meaning in hind)

महिला की ओवरी से अंडा बाहर आने यानि रिलीज होने को चिकित्सा विज्ञान में ओवुलेशन कहा जाता है। ओव्यूलेशन के दौरान, अंडा अंडाशय से निकलता है और फैलोपियन ट्यूब में प्रवेश करता है। इस अवधि के दौरान, जब जोड़ा एक साथ होता है, तो शुक्राणु ट्यूब में अंडे को निषेचित करता है।

ओव्यूलेशन का समय किसी महिला के लिए गर्भधारण करने का सबसे अच्छा समय होता है, इसे सबसे उपजाऊ समय माना जाता है। असुरक्षित यौन संबंध से गर्भधारण की संभावना सबसे अधिक होती है। जो जोड़े गर्भवती नहीं होना चाहते उन्हें ओव्यूलेशन के दौरान संभोग से बचना चाहिए।

ओव्यूलेशन अवधि पर निर्भर करता है। यदि मासिक धर्म नियमित है, तो ओव्यूलेशन समय पर होता है, लेकिन यदि मासिक धर्म अनियमित है, तो ओव्यूलेशन की नियमितता में समस्या हो सकती है। अनियमित ओव्यूलेशन के अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे मोटापा या कम वजन, पीसीओएस और थायराइड। ओव्यूलेशन को नियंत्रित करने के लिए डॉक्टर आमतौर पर पहले जीवनशैली में बदलाव की सलाह देते हैं।

ओवुलेशन कब होता है? When does ovulation occur in Hindi

महिलाओं का मासिक धर्म चक्र अलग हो सकता है, इसलिए हर महिला का ओवुलेशन काल अलग हो सकता है। जैसे:

28 दिन का मासिक धर्म चक्र ओव्यूलेशन दिन 14 वां और सर्वोत्तम प्रजनन कालावधी 12 वां, 13 वां और 14 वां दिन।
35 दिन का मासिक धर्म चक्र ओव्यूलेशन का 21 वां दिन और सबसे अच्छा प्रजनन कालावधी 19 वां, 20 वां और 21 वां दिन।
21 दिन का मासिक धर्म चक्र ओव्यूलेशन दिन 7 और सर्वोत्तम प्रजनन कालावधी 5, 6 और 7।
40 दिन का मासिक धर्म चक्र ओव्यूलेशन का 26 वां दिन और सबसे अच्छा प्रजनन कालावधी 24 वां, 25 वां और 26 वां दिन।

ओवुलेशन के लक्षण | (Ovulation Symptoms in Hindi)

ओवुलेशन के दौरान, कुछ महिलाओं को निम्नलिखित लक्षण महसूस हो सकते हैं:

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द या ऐंठन
  • योनि से पतला, चिपचिपा स्त्राव
  • स्तनों में भारीपन या संवेदनशीलता
  • मूड में बदलाव
  • शरीर के तापमान में मामूली वृद्धि
  • सर्विक्स खुल जाना
  • योनि में सूजन

ओवुलेशन के समय यौन संपर्क करने का फायदा | Benefits of having sexual contact at the time of ovulation

ओवुलेशन के समय यौन संपर्क करने का मुख्य फायदा यह है कि यह गर्भधारण की संभावना को बढ़ाता है। ओवुलेशन के दौरान, महिलाओं के अंडाशय से एक अंडा निकलता है। यदि यह अंडा शुक्राणु द्वारा निषेचित हो जाता है, तो यह गर्भाशय में प्रत्यारोपित हो सकता है और एक भ्रूण बन सकता है।

Read Also: पीरियड्स को जल्दी लाने के लिए ये 5 घरेलू उपाय, जो आपको चौंका देंगे!

ओवुलेशन के दौरान यौन संपर्क करने से गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने के कई कारण हैं। सबसे पहले, इस समय महिलाओं की योनि में श्लेष्म अधिक तरल और पतला होता है, जिससे शुक्राणुओं को अंडे तक पहुंचने में आसानी होती है। दूसरा, इस समय महिलाओं के शरीर में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजेन का स्तर अधिक होता है, जो दोनों गर्भधारण को बढ़ावा देने वाले हार्मोन हैं।

क्‍या सिर्फ ओवुलेशन पीरियड में प्रेगनेंट हो सकते हैं?

ऐसा नहीं है कि महिलाएं केवल ओव्यूलेशन के दौरान ही गर्भवती हो सकती हैं। अंडे को रिलीज़ होने के 12 से 24 घंटों के भीतर निषेचित किया जा सकता है। कुछ शर्तों के तहत शुक्राणु महिला प्रजनन पथ में 5 दिनों तक जीवित रह सकते हैं।

इसलिए, यदि आप ओव्यूलेशन के दौरान या ओव्यूलेशन के दिन संभोग करती हैं, तो आप गर्भवती हो सकती हैं।

ओवुलेशन टेस्ट कैसे करें? (Ovulation Test in Hindi)

ओव्यूलेशन किट कैसे काम करती है? बच्चे की योजना बनाना और प्रजनन क्षमता से निपटना महिलाओं के सबसे आम प्रश्नों में से एक है। एलएच (ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन) के स्तर में वृद्धि का पता लगाने के लिए ओव्यूलेशन किट आपके मूत्र के नमूने का परीक्षण करती है।

एलएच हमेशा आपके मूत्र में मौजूद होता है, यह ओव्यूलेशन से 34 – 36 घंटे पहले बढ़ता है। ये परीक्षण आपको उन दिनों का पता लगाने में मदद करते हैं जब महिलाएं जल्दी गर्भवती हो सकती हैं। ओव्यूलेशन से एक या दो दिन पहले, आपके एलएच हार्मोन का स्तर पांच गुना तक बढ़ सकता है। इस खास दिन पर सेक्स करने से महिलाओं के गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

Q1. पीरियड के कितने दिन बाद ओवुलेशन शुरू होता है?

Ans: पीरियड के 10 से 14 दिन बाद ओवुलेशन शुरू होता है।

Q2. ओवुलेशन पीरियड क्या होता है?

Ans. ओवुलेशन पीरियड वह समय होता है जब महिलाओं के लिए सबसे अधिक उपजाऊ समय होता है। इस दौरान, गर्भधारण की संभावना सबसे अधिक होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *